यमक अलंकार – परिभाषा, उदाहरण, अर्थ 

दोस्तों आज हम आप सभी लोगों को इस पोस्ट मे यमक अलंकार के बारे मे जानकारी देने वाले है , आज हम यह पे देखेंगे yamak alankar ki paribhasha व udharahan के साथ ही और सभी जानकारी, यमक अलंकार के बारे मे जानने वाले है. यदि आप लोग यमक अलंकार के बारे मे जानकारी प्राप्त करना चाहते है तोह आप हमारे इस पोस्ट को अंत तक पढे.

यमक अलंकार की परिभाषा

जिस प्रकार अनुप्रास अलंकार में किसी एक वर्ग की आवृत्ति होती है उसी प्रकार यमक अलंकार में किसी काव्य का सौंदर्य बढ़ाने के लिए एक शब्द की बार-बार आवृत्ति होती है. प्रयोग किए गए शब्द का अर्थ हर बार अलग ही होता है, शब्द की दो बार आवृत्ति होती है वहां यमक अलंकार के अंतर्गत आने के लिए आवश्यक है.

Credit : Divyagyan

यमक अलंकार (Yamak Alankar) के 10 उदाहरण हिन्दी मे

  • कनक कनक ते सौ गुनी मादकता अधिकाय, या खाए बौराय जग या पाए बौराय ||

इस उदाहरण में कनक शब्द का प्रयोग दो बार किया गया है प्रथम कनक का अर्थ सोना होता है और दूसरी कनक का अर्थ धतूरा होता है|

  • माला फेरत जग गया, फिरा न मन का फेर|कर का मनका डार दे मनका मनका फेर ||

इस उदाहरण में मनका शब्द दो बार प्रयोग किया गया पहली बार मनका का अर्थ होता है और दूसरी बार मनका क्या अर्थ होता है मन की भावनाओं से |

  • कहै कवि बेनी बेनी ब्याल की चतुराई लीनी |

इस उदाहरण में बेनी शब्द दो बार आया है लेकिन यहां पर इसका अर्थ अलग-अलग है एक बेनी शब्द का अर्थ होता है संकेत करना और दूसरी बेनी का अर्थ होता है चोटी के बारे में बता रहा है|

  • काली घटा का घमंड घटा |

इस उदाहरण में घटा शब्द का प्रयोग दो बार किया गया है पहली घटा का अर्थ होता है बादलों के काले रंग की ओर संकेत कर रहा है और दूसरे घटा का अर्थ है बादलों के कम होने कि कल्पना कर रहा है |

  • तीन बेर खाती थी वे तीन बेर खाती है|

इस उदाहरण में बेर शब्द का दो बार प्रयोग हुआ है पहले बेर का अर्थ होता है दिन में तीन बार खाने का संकेत कर रहा है तथा दूसरी बेर का अर्थ होता है तीन फल |

  • जेते तुम तारे तेते नभ में न तारे हैं|

इस उदाहरण में तारे शब्द का प्रयोग दो बार किया गया है पहले तारे का अर्थ होता है उदारता से तथा दूसरे तारे का अर्थ होता है आसमान के तारों की बड़ी संख्या|

  • ऊंचे घोर मंदर के अंदर रहन वारी,

ऊंचे घोर मंदर के अंदर रहाती है |

इस उदाहरण में ऊंचे घोर मंदर की आवृत्ति दो बार की गई है यहां दोबारा मृत्यु होने पर दोनों का अर्थ भिन्न बता रहा है |

यमक अलंकार के कुछ अन्य उदाहरण:

  • केकी रव की नुपुर ध्वनि सुन, जगती जगती की मूख प्यास |
  • बरजीते सर मैन के, ऐसे देखे मैं न  हरिनी के नैनात थे हथिनी के ये   नैन |
  • तोपर वारौ उर्वशी, सुन राधिके सुजाना, तू मोहन के उर्वशी हे उर्वशी सामान |

Conclusion

आज हमने इस पोस्ट के माध्यम से हमने आप सभी लोगों को Yamak alankar के बारे मे सभी जानकारी दी है. दोस्तों यदि आप लोगों को हमारा यह पोस्ट इन्फॉर्मटिव लगा तो आप हमारे इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे.

हम इस वेबसाईट (Infoinhindi.net) पर हिन्दी व्याकरण की सभी जानकारी देते है. दोस्तों यदि आप लोगों को हिन्दी व्याकरण पढ़ने तथा समझने मे तकलीफ होती है तो आप हमारे हिन्दी व्याकरण मे दिए गए पोस्ट को पढ़ के हिन्दी व्याकरण को अशनि से सिख सकते है.

Increase your Friendship
नमस्कार दोस्तौ मेरा नाम गुलसन है .मे Infoinhindi का Auther हू . मे हिन्दी लेख लिख्ने मे रुचि रखता हू . दोस्तौ मै infoinhindi के माधयम से रोजाना नयी -नयी जानकारीया शेयर करता हू.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here