Mahashivratri 2022 : 1 मार्च को है महा शिवरात्रि गल्ती से भी ना करे ये काम ,वर्ना महादेव हो जाएंगे नारज

Mahashivratri 2022 : दोस्तो जैसा कि आप जानते ही है कि हमारे भारत देश में आये दिन कोई न कोई त्योहार होता ही है, यह त्योहार साल, महीने, हफ्ते, दिन में होते है. हमारे हिन्दू कलेंडर में हर दिन का एक महत्व होता है, और हर दिन की एक खास उपासना और व्रत होता है, तो दोस्तो त्योहारों की इस लंबी श्रृंखला में आज हम आप सभी के लिए लाए है 2022 का एक और आने वाला बहुत बड़ा त्योहार – महाशिवरात्रि.


दोस्तो आज के इस आर्टिकल में हम आपको महाशिवरात्रि के बारे में सभी जानकारी देंगे, कि 2022 में हम लोग किस दिन और किस समय और किस महीने में शिव जी के इस पावन त्योहार को सेलिब्रेट करेंगे.


दोस्तो जैसा कि हमने ऊपर ही बताया है कि अपने हिन्दू सप्ताह का हर दिन किसी न किसी देवी या देवता को समर्पित होता है, ऐसे ही हमारे 7 दिनों की कड़ी में सोमवार का दिन शिव जी का होता है, सोमबार के ही दिन हम लोग शिव जी की अधिकतर पूजा-पाठ करते है. सोमबार के दिन यानी कि मंडे के दिन से सोलह सोमबार का फ़ास्ट भी किया जाता है, जिसके बारे में हम आपको अपने अगले लेख में बताएंगे.


हमारे पंचांग में शिवरात्रि हर महीने आती है जिसे हम प्रदोष व्रत पूजा या फिर मास शिवरात्रि व्रत भी कहते है. उस दिन सभी शिव भक्त फ़ास्ट रखते है. लेकिन मास शिवरात्रि की इस कड़ी में एक महाशिवरात्रि भी आती है, कहते है कि अगर इस दिन कोई शिव जी की पूजा और आराधना करता है तो उसे साल भर की 11 मास शिवरात्रि का फल मिल जाता है, महाशिवरात्रि पूजा के दिन सुबह से ही सभी शिव मंदिरों में भक्तो की लंबी लाइन लग जाती है, सभी लोग शिव जी पर बेल पत्र, बेर, गन्ने, गन्ने का रस, धतूरा आदि और भी प्रसाद चढ़ाने के लिए बेताब रहते है, इस दिन लोग भांग का भी सेवन करते है, कहते है कि हमारे प्यारे शिव जी को भाँग बहुत पसंद होती है, इसीलिए भक्त भांग का सेवन करते है.

2022 मै किस दिन है ( Mahashivratri ) महाशिवरात्रि


दोस्तो हमारे देश में सभी व्रत और त्यौहार ग्रह और नक्षत्रों की गति और युति पर निर्धारित किये जाते है. ऐसे ही इस साल 2022 में महाशिवरात्रि व्रत फेस्टिवल फाल्गुन कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी के दिन है यानी कि यह तारीख 2022 में 1 मार्च को है, अब आप समझ ही गए होंगे कि 1 मार्च के पावन दिन को महाशिवरात्रि का महाउत्सव पूरे भारतवर्ष में मनाया जाएगा.


कैसे मनाई जाती है महाशिवरात्रि व्रत

दोस्तो हमारे देश में बहुत सारे जाती और समुदाय, और संस्कृति और अलग अलग बोली व राज्य के लोग रहते है, और उन सब लोगो में त्योहार मनाने के अलग अलग तरीके होते है, लेकिन महाशिवरात्रि का त्यौहार सभी लोग लगभग एक ही तरीके से मनाते है.

महाशिवरात्रि को कैसे मनाते है उसके कुछ मुख्य चरण निम्नलिखित है.

SR NO महाशिवरात्रि(Mahashivratri) कैसे मनाते है
1दोस्तों महाशिवरात्रि के दिन हम सभी को सुबह जल्दी उठना होता है, और अपने सभी काम पूरे करके नहा धो लेना होता है, महाशिवरात्रि व्रत 2022 के दिन हम सभी को पानी में गंगाजल डालकर नहाना चाहिए, क्योंकि ऐसा करने से हम और हमारी आत्मा शुद्ध हो जाती है।
2इसके बाद हम सभी को नए और सादा कपड़े पहन कर बेल पत्र के पत्ते लेने जाना होता है.
3इसके बाद हम सभी इन बेल पत्रो को पानी से साफ करते है, और बेर, चरणामृत, बेल फल, सेव, केले, अमरूद, गन्ने का रस, शहद आदि को एक थाली में रखकर शिव जी को अर्पित करते है।
4इसके बाद हम सब लोग शिव जी की आरती करते है और फिर उनका अभिषेक भी करते है, इसके बाद अभिषेक किये हुए जल को हम थोड़ा सा ग्रहड़ कर लेते है।
5इसके बाद पूरे दिन हम लोगो को बस फल और गाजर का हलवा, दही, मिल्क, चाय, इत्यादि पर ही रहना चाहिए, और शिव जी की शिव चालीसा, और उनके मन्त्र का जप करना चाहिए, इससे आपको अच्छा परिणाम देखने को मिलेगा।

महाशिवरात्रि की एक प्राचीन स्टोरी

दोस्तो जैसे कि हर व्रत के पीछे कोई न कोई कहानी होती है बिल्कुल ऐसे ही महाशिवरात्रि पूजा व व्रत की भी एक कहानी है, एक बार जब बृह्मा जी और विष्णु जी मे बहस हो गयी थी कि उनमें से कौन सबसे ज्यादा बेस्ट है, तब इस बहस को शिव जी ने खत्म किया था, तब जाकर उन दोनों देवो को पता लगा कि उनमें से कोई भी बेस्ट नही है सब बराबर है, इस तरह से शिव जी सब का घमंड दूर कर देते है.

इसे भी पढे : Makar Sankranti : जानिये साल 2022 मे किस दिन मनाया जाएगा मकर संक्रांति
               बसन्त पंचमी 2022 ( विद्या का त्यौहार ) 
Increase your Friendship