kriya visheshan : क्रिया विशेषण किसे कहते हैं

kriya visheshan kise kahate hain
kriya visheshan kise kahate hain

दोस्तों आज हम आप सभी लोगों को इस आर्टिकल मे क्रिया विशेषण (kriya visheshan) के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी देने वाले है , जैसे की kriya visheshan kise kahate hain और Kriya Visheshan ke bhed और Udaharan कया है. आज हम यह पे आप सभी लोगों को क्रिया विशेषण के बारे मे सभी जानकारी देंगे. यदि आप क्रिया विशेषण के बारे मे सभी जानकारी लेना कहते है तो दोस्तों आप हमारे इस पोस्ट को अंत तक पढे.

Contents show

क्रिया विशेषण कया होता है ? (Adverb In Hindi)

क्रिया विशेषण वह शब्द होता है, जो हमें क्रिया की विशेषता बताते हैं दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि जो किसी कार्य के करने, घटित होने या किसी स्थिति का भूत कराते हैं उन्हें क्रिया कहते हैं|

क्रिया विशेषण की परिभाषा (kriya visheshan examples)

वह शब्द जो हमें क्रिया की विशेषता का पता चलता है वह शब्द क्रिया विशेषण कहलाते हैं| जैसे की

  • रोहन तेज दौड़ता है

इस वाक्य में दौड़ता क्रिया है और तेज शब्द हमें क्रिया की विशेषता बता रहा है कि वह कितनी तेज भाग रहा है तेज शब्द क्रिया विशेषण है|

क्रिया विशेषण उदाहरण (kriya visheshan ke udaharan)

क्रिया विशेषण के उदाहरण कुछ इस प्रकार हैं|

Serial Nokriya visheshan examples in hindi
1 मोहन तेज दौड़ता है|
2वह धीरे धीरे चलता है|
3मैं रोहन धीरे-धीरे आगे बढ़ता है|
4राम धीरे चलता है|
5मैं वहां नहीं जाऊंगा|
6हमें यहां से आगे जाना है|
7कल मेरा जन्मदिन है|
8रोहन प्रतिदिन कसरत करता है|
9वह थैला बहुत भारी है|
10आज तेज बारिश आएगी|
11मुझे बहुत प्यास लगी है|
12मुझे थोड़ा ही खाना चाहिए|
13मेरा घर ऊपर है|
14तुम्हें कम बोलना चाहिए|

धीरे धीरे, तेज आदि शब्द चलना, दौड़ना, बढ़ाना इत्यादि क्रियाओं की विशेषता बताने का जो काम कर रहे हैं वह क्रिया विशेषण शब्द कहलाते हैं|

क्रिया विशेषण के भेद (kriya visheshan ke bhed)

क्रिया विशेषण के चार भेद होते हैं जो इस प्रकार से हैं|

अर्थ के आधार पर क्रिया विशेषण के भेद

अर्थ के आधार पर क्रिया विशेषण के चार भेद होते हैं:

  1. कालवाचक क्रिया विशेषण
  2. स्थान वाचक क्रिया विशेषण
  3. रीतिवाचक क्रिया विशेषण
  4. परिमाणवाचक क्रिया विशेषण

कालवाचक क्रिया विशेषण

कालवाचक क्रिया विशेषण : जिन शब्दों से क्रिया से समय संबंधी विशेषता प्रकट होती है अर्थात जिन शब्दों से क्रिया के होने के समय के विषय में पता चलता है तो उन्हें कालवाचक क्रिया विशेषण कहते हैं जैसे की

  • राम अब मेरे घर आया|
  • परसो बरात होगी|
  • मैंने सुबह खाना खाया था|
  • मैं शाम को खेलता हूं|
  • मैं सुबह जल्दी उठता हूं|
  • मैं दोपहर से स्कूल से लौटता हूं|
  • मैं अक्सर शाम को गाना गाता हूं|

क्रिया शब्द जैसे आना, खाना, होना, उठाना, लौटना आदि के होने के समय के बारे में कल, सुबह, शाम, दोपहर आदि शब्द बताते हैं वह शब्द कालवाचक क्रिया विशेषण के अंतर्गत आएंगे|

रीतिवाचक क्रियाविशेषण

रीतिवाचक क्रियाविशेषण : जिन शब्दों से क्रिया की रीति आने काम करने का तरीका प्रगट होता है उन्हें रीतिवाचक विशेषण कहते हैं जिन क्रियाविशेषण ओ को समावेश दूसरे वर्गों में नहीं हो सकता है उन संबंध उन सभी को गणना इसी में की जाती है जैसे-

  • राम ध्यान से चलता है|
  • वह फटाफट खाता है|
  • रोहन गलत चाल चलता है|
  • मनीष हमेशा सच बोलता है|
  • पीयूष अच्छी तरह काम करता है|
  • नीरज ध्यानपूर्वक पढ़ाई करता है|
  • फिर धीरे-धीरे आगे बढ़ता है|

ध्यान से, फटाफट, लता,सच, हमेशा, अच्छी तरह , ध्यान पूर्वक, धीरे धीरे याद शब्द खाना, चलना, बोलना आदि क्रियाओं की विशेषता बता रहे हैं यह शब्द रीतिवाचक क्रिया विशेषण के अंतर्गत आएंगे|

रीतिवाचक क्रिया विशेषण के प्रकार

  • निश्चय वाचक क्रिया विशेषण
  • निश्चय वाचक क्रिया विशेषण
  • कारण आत्म वाचक क्रिया विशेषण
  • आकस्मिक आत्मक वाचक क्रिया विशेषण
  • सीकर आत्मा वाचक क्रिया विशेषण
  • निषेधात्मक वाचक  क्रियाविशेषण
  • आवृत्तिआत्म वाचक क्रिया विशेषण
  • आवधार वाचक क्रिया विशेषण
  • निष्कर्ष वाचक क्रिया विशेषण

स्थान वाचक क्रिया विशेषण

स्थान वाचक क्रिया विशेषण : ऐसे अधिकारी शब्द जो हमें क्रियाओं के होने के अस्थान का बोध कराते हैं वह शब्द स्थान वाचक क्रिया विशेषण कहलाते हैं जैसे-

तुम अंदर जाकर खेलो|

  • मैं बाहर खेलता हूं|
  • हम छत पर सोते हैं|
  • मैं पेड़ पर बैठा हूं|
  • रीमा मुझसे बहुत दूर बैठी है|
  • राजू मैदान में खेल रहा है|
  • तुम अपने दाहिने और गिर जाओ|

अंदर ,बाहर ,पेड़ पर ,छत पर ,दूर ,मैदान में , दाहिने आदि शब्द हमें बैठना सोना, खेलना ,गिरना आदि क्रियाओं के होने के स्थान का बोध करा रहे हैं जब कोई शब्द हमें किसी क्रिया के होने के स्थान का बोध कराते हैं तो ऐसे शब्द स्थान वाचक क्रिया विशेषण के अंतर्गत आते हैं|

परिमाणवाचक क्रियाविशेषण

ऐसी क्रिया विशेषण शब्द हमें क्रिया के परिमाण संख्या या मात्रा का पता चलता है वे शब्द परिमाणवाचक विशेषण कल आते हैं जैसे-

  • तुम थोड़ा अधिक खाओ|
  • विकास अधिक काम करता है|
  • अभी उसके दोस्त से ज्यादा घूमना है|
  • सूरज बहुत ज्यादा दौड़ता है|
  • आयुष उसके दोस्त से ज्यादा पड़ता है|

अधिक, ज्यादा ,पर्याप्त आदि शब्द खाना, दौड़ना, पढ़ना, सोना आदि सभी क्रियाओं के परिमाप मात्र का बोध कराते हैं परिभाषा से हमें यह जानना पड़ता है कि यह शब्द जो क्रियाओं के होने की मात्रा में बोध कराते हैं ऐसे शब्द को परिमाणवाचक क्रियाविशेषण के अंतर्गत आते हैं|

प्रयोग के आधार पर क्रिया विशेषण के भेद

प्रयोग के आधार पर क्रिया विशेषण के तीन भेद होते हैं:

  • साधारण क्रिया विशेषण
  • संयोजक क्रिया विशेषण
  • अनुबंध क्रिया विशेषण

साधारण क्रिया विशेषण

ऐसे क्रिया विशेषण शब्द जिनका प्रयोग वाक्य में स्वतंत्रता होता है वह शब्द साधारण क्रिया विशेषण कहलाते हैं जैसे-

  • अरे! तुम कब आए?
  • अरे! वह लड़का कहां चला गया?
  • हाय! यह क्या हो गया|
  • बेटा जल्दी जाओ|

जिन शब्दों का प्रयोग वाक्य में स्वतंत्र होता है वह शब्द साधारण क्रिया विशेषण कहलाते हैं|

संयोजक क्रिया विशेषण

जिन क्रिया विशेषण ओं का संबंध है किसी उपवाक्य से होता है वह शब्द संयोजक क्रिया विशेषण कहलाते हैं| जैसे-

  • जहां तुम अभी बैठे हो, वहां घर हुआ करता था|
  • जहां तुम जाओगे, वही मैं जाऊंगा|
  • यहां हम चल रहे हैं, वहां वह दौड़ रहे हैं|

क्रिया विशेषण ओं का संबंध किसी उपवाक्य से है वह क्रिया विशेषण शब्द क्रिया विशेषण कहलाते हैं|

अनुबंध क्रिया विशेषण

ऐसे शब्द जिसे निश्चय के लिए कहीं भी प्रयोग कर लिए जाते हैं वे शब्द अनुबंध क्रिया विशेषण  कहलाते हैं|

  • यह काम तो गलत ही हुआ है|

आपके आने भर की देर है|

शब्दो का निश्चय के लिए कहीं भी प्रयोग हो जाता है अतः वह शब्द अनुबंध क्रिया विशेषण के अंतर्गत आते हैं|

रूप के आधार पर क्रिया विशेषण के भेद

Credit : Dear Sir Youtube Channel

रूप के आधार पर क्रिया विशेषण के तीन भेद होते हैं|

  • मूल क्रिया विशेषण
  • स्थानीय क्रिया विशेषण
  • योगिक क्रिया विशेषण

मूल क्रिया विशेषण

जो शब्द एक दूसरे के मेल से नहीं बनते यानी जो दूसरे शब्दों में प्रत्यय लगे बिना बन जाते हैं वह शब्द मूल क्रिया विशेषण कहलाते हैं जैसे-

  • पास
  • दूर
  • ऊपर
  • आज
  • सदा
  • अचानक
  • फिर
  • नहीं
  • ठीक

स्थानीय क्रिया विशेषण

ऐसे शब्द जो बिना अपने रूप में बदलाव किए किसी विशेष स्थान पर आते हैं वह स्थानीय क्रिया विशेषण कहलाते हैं जैसे-

  • वह अपना घर खाएगा|
  • वह अपना सिर पड़ेगा|
  • तुम दौड़ कर चलते हो|

घर, चलते आदि शब्दों के रूप में बिना बदलाव हुए वह विशेष स्थान पर प्रयोग किए गए हैं अतः या स्थानीय क्रिया विशेषण कहलाते हैं|

योगी क्रिया विशेषण

ऐसे क्रिया विशेषण जो किसी दूसरे शब्दों में प्रत्यय और पर आदि लगाने से बनते हैं ऐसे क्रियाविशेषण योगिक क्रिया विशेषण की श्रेणी में आते हैं|

संज्ञा से योगी क्रिया विशेषण:-

जैसे-

  • सवेरे
  • शाम
  • आजन्म
  • क्रमश
  • प्रेम पूर्वक
  • रात भर
  • मन से

सर्वनाम सहयोगी क्रिया विशेषण:-

जैसे-

  • यहां
  • वहां
  • अब
  • कब
  • तब
  • इतना
  • उतना
  • जहां
  • जिससे

विशेषण से क्रिया विशेषण:-

जैसे-

  • चुपके
  • पहले
  • दूसरे
  • धीरे

क्रिया से क्रिया विशेषण:-

जैसे-

  • खाते
  • पीते
  • सोते
  • उठते
  • बैठते
  • जागते

क्रिया विशेषण को अंग्रेजी मे कया कहते है ?

क्रिया विशेषण को इंग्लिश भाषा मे हम Adverb कहते है

विशेषण और क्रिया विशेषण में अंतर कया होता है ?

विशेषण= जो शब्द संज्ञा या फिर सर्वनाम की विशेषता बताते हैं उन्हें विशेषण कहते हैं|
उदाहरण:- वह अच्छा खिलाती है|
क्रिया विशेषण= जो शब्द क्रिया की विशेषता बताते हैं उन्हें क्रिया विशेषण कहते हैं|
उदाहरण:- वह अच्छा पड़ता है|

Conclusion

दोस्तों आज हमने आप लोगों को इस पोस्ट मे क्रिया विशेषण के बारे मे सभी जानकारी देने की कोसिस की है जैसे की क्रिया विशेषण किसे कहते हैं और वे कितने प्रकार के होते है ? ,क्रिया विशेषण के कितने भेद होते हैं और भी सभी जानकारी Kriya Visheshan के बारे मे हमने आप लोगों को यह पे बताई है.

तो आशा करते हैं हम की हमारा ही लिखा हुआ आपको बहुत ही लाभदायक होगा अधिक से अधिक जानकारी हिंदी व्याकरण में बताई गई है. हमारे ब्लॉग पर आपको हिंदी व्याकरण की संपूर्ण जानकारी देता है साथ ही साथ हमें आसान भाषा भी बताता है हर किसी के अंदर कोई ना कोई गुन होता है बस थोड़ा पता चलने के लिए होती है”|

दोस्तों यदि आप लोगों को हमारा यह पोस्ट Informative लगा तो दोस्तों आप लोग हमारे इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे. आप सभी लोगों को हमारे पोस्ट मे अंत तक बने रहने के लिए धन्यवाद.

Increase your Friendship
नमस्कार दोस्तौ मेरा नाम गुलसन है .मे Infoinhindi का Auther हू . मे हिन्दी लेख लिख्ने मे रुचि रखता हू . दोस्तौ मै infoinhindi के माधयम से रोजाना नयी -नयी जानकारीया शेयर करता हू.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here