अनुस्वार किसे कहते हैं, परिभाषा, भेद एवं उदाहरण

anuswar kise kahate hain
ANUSHWAR SHABD IN HINDI

दोस्तों आज हम आप सभी लोगों को इस आर्टिकल मे अनुस्वार (Anuswar) के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी देने वाले है , जैसे की Anuswar kise kahate hain और Anuswar ke bhed और Udaharan कया है. आज हम यह पे आप सभी लोगों को क्रिया विशेषण के बारे मे सभी जानकारी देंगे. यदि आप अनुस्वार के बारे मे सभी जानकारी लेना कहते है तो दोस्तों आप हमारे इस पोस्ट को अंत तक पढे.

अनुस्वार किसे कहते हैं? (anuswar kise kahate hain)

अनुस्वार बना है अनु + स्वार के जोड़ से इसका अर्थ होता है कि स्वर बाद आने वाला अनुसार शब्दों को भाव को बार-बार बदल देता है उसे अनुस्वार कहते हैं|

अनुस्वार की परिभाषा (anuswar ki paribhasha)

अनुस्वार का अर्थ होता है स्वर के बाद आने वाला शब्द अपने शब्दों में कहा जाए तो स्वर के बाद आने वाला व्यंजन अनुस्वार कहलाता है अनुस्वार की ध्वनि नाक से निकलती है हिंदी भाषा में अनुस्वार का प्रयोग चिन्ह बिंदु (•) के रूप में अलग-अलग जगहों का प्रयोग किया जाता है|

अनुस्वार के उदाहरण (anuswar shabd ke udharan)

जैसे :- अं = ठ + • + ड़ = ठंड

      अं। = म + • + ख = मंद

Serial No anuswar words in hindi udharan (anuswar examples)
1पंख
2गंदा
3तिरंगा
4पंडित
5मंत्र
6संतोष
7चंदन
8संतरा
9संजय
10बांग्ला
11मंजन
12अंदर
13संजय
14अंडा
15अंगूर
16संगीता
17फिरंगी
18घंटी
19पंजाब
20नारंगी
21पलंग
22मंगल
23लंबे
24अनोरंजन
25भंडारा
26जंगल
27संदेश
28हंस
29मंद
30छंद

अनुस्वार का प्रयोग

अनुस्वार (०) का प्रयोग पंचम वर्णों ( ड् ञ,ण,न से पंचाक्षर का लाए जाते हैं) इसकी जगह पर किया जाता है|

  • गंड्डा = गंगा
  • चंञ्चल = चंचल
  • डण्डा   = डंडा
  • गन्दा  = गंदा
  • कम्पना = कंपन

अब हम यह जान गए हैं कि अनुस्वार (०) का प्रयोग पंचम वर्णों ( ड़, ञ, ण, न,म) के स्थान पर किया जाता है|

  • लेकिन हम ऊपर देख सकते हैं कि प्रत्येक पंचाक्षर के स्थान पर (०) अनुस्वार का प्रयोग एक समान है|
  • ऐसे में हमें इस बात का कैसे पता चले कि कौन सा अनुस्वार (०) किस पंचाक्षर का उच्चारण कर रहा है|

अनुस्वार की पंचाक्षर में बदलने का नियम

अनुस्वार के चिन्ह के प्रयोगों के बाद आने वाला वर्ड जी स्वर्ग का होता है अनुस्वार का चिन्ह उसी वर्ग के पंचम वर्ग का स्थान लगता है यही उसी का उच्चारण का ध्वनि कहलाता है|

इस नियम को अच्छे से जानने और समझने के लिए हिंदी वर्णमाला की पांच वर्गों का ज्ञान बहुत ही जरूरी है|

उदाहरण:-

  • ‘क’ वर्ग =क, ख,ग, घ, ग
  • च’ वर्ग =च,छ, ज, झ,ञ
  • ट’ वर्ग =ट, ठ, ड, ढ, ण
  • त’ वर्ग=त, थ, द, ध, न
  • वर्ग=प, फ, ब, भ, म, य, र, ल, व श, ह

हम अब उदाहरण की सहायता लेकर इस नियम को जान सकते हैं| उदाहरण:-

  • गंगा = गंगा इस जगह पर अनुस्वार (०) के चिन्ह के उपयोग के बाद ‘क’वर्ग का वर्ण ‘ग’है अनुस्वार का चिन्ह (०) ‘ह’ का यह अर्थ होता है कि ‘क’ वर्ग के पंचम वर्ण का उच्चारण कर रहे हैं|
  • डंडा = इस जगह पर अनुस्वार (०) किचन के प्रयोग के बाद ‘र’ वर्ग का वर्ड (ड़) है अनुस्वार का चिन्ह (०)’ण’इसका अर्थ होता है कि’ट’वर्ग की पंचम वर्ण का उच्चारण कर रहा है|

अनुस्वार के कुछ नियम

Credit : Divyagyan
  1. अनुस्वार के बाद यदि य,र,ल,वह,श,से,से,है हो तो अनुस्वार मां के रूप में लिखा जाना चाहिए|
  2. हमें इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि संयुक्त वार्ड दो जंगलों से मिलकर ही बनता है|
  3. अगर पंचम वर्ग द्वितीय रूप में दोबारा आए तो पंचम में अनुज कुमार के रूप में परिवर्तित नहीं होता है|
  4. अगर पंचम अक्षर की बात किसी अन्य वर्ग का कोई वर्ड आए तो पंचम अंतर अनुस्वार के रूप में परिवर्तित नहीं होता है|

अनुस्वार और अनुनासिक का अंतर

अनुनासिक स्वर है और अनुस्वार मूल रूप से व्यंजन है इसके प्रयोग में कारण कुछ शब्दों के अर्थ में अंतर आ जाता है जैसे:-

  • हंस  (एक जल पक्षी)
  • हंस। (हंसने की क्रिया)

अनुस्वार और अनुनासिक का उदाहरण (anuswar and anunasik)

अनुस्वार शब्द:- (anuswar wale shabd)

  • पसंद, गंदा, बांधते, गुंजल्क,खींच,  इंद्रियों, डेंगर, संकल्प,उपरांत, दंड, आशंका, सायं,प्रारंभ, भयंकर ,लंबी आनंद, दिसंबर, चिंतित, कंधा, कुकिंग, सिलेंडर, पुंज, हिना, पिंड, अत्यंत, रंगीन, तंबू, नींद ,ठंडी, अधिकांश ,संपूर्ण ,सुंदर ,गुंजन, अत्यंत ,अंतिम ,कैंप, सेंटर, संक्रमण, संभावना, अंकित, गेंद, संछिप्त, अंग्रेजी, फेक , मंत्री,  चिंतन ,ढंग ,अत्यंत ,नंगा ,अंदाजा, जिंदा, संबंध, अंशु ,बंद, आशंका |

अनुनासिक शब्द :- (anunasik wale shabd)

  • झांकती, उंगली, लिया आजा ऊंगली, संभाले, बांज, आंख,आंखे, मुंह,बांग, अंधेर, मां, फूंकना, रंगी, अंगूठा, बांद, पहुंचाई, चांद, गांव, मुंह, लूंगा|

Conclusion

आज हमने इस लेख मे आप सभी लोगों को anuswar जो की हिंदी व्याकरण का ही ऐक भाग है , उसके बारे मे हमने सम्पूर्ण जानकारी दी है. जैसे की anuswar kise kehte hai , anuswar ki paribhasha , anushwar shabd ke udharahan , anuswar anushashik कया होते है. और भी काफी जानकारी आप लोगों के साथ शेयर की है.

तो आशा करते हैं हम की हमारा ही लिखा हुआ आपको बहुत ही लाभदायक होगा अधिक से अधिक जानकारी अनुस्वर के बारे में बताई गई है. हमारे ब्लॉग पर आपको हिंदी व्याकरण की संपूर्ण जानकारी देता है साथ ही साथ हमें आसान भाषा मे बताते है.

दोस्तों यदि आप लोगों को हमारा यह लेख informative लगा , तोह आप हमारे इस लेख को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे. दोस्तों आप लोगों को हमारे साथ बने रहने के लिए धन्यवाद.

Increase your Friendship
नमस्कार दोस्तौ मेरा नाम गुलसन है .मे Infoinhindi का Auther हू . मे हिन्दी लेख लिख्ने मे रुचि रखता हू . दोस्तौ मै infoinhindi के माधयम से रोजाना नयी -नयी जानकारीया शेयर करता हू.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here