hindi vyakaran

अनुच्छेद लेखन क्या हैं ? विशेषताएं और उदाहरण

हेलो दोस्तो आज हम आप सभी को इस आर्टिकल के माध्यम से अनुच्छेद लेखन क्या है और अनुच्छेद लेखन (Anuched lekhan) लिखते के समय किन बातों का ध्यान रखना चाहिए आदि के बारे में सारी जानकारी देने वाले है. तो चलिए जानते है ।

दोस्तों यदि आज आप हमारे इस पोस्ट मे anuched lekhan के बारे मे जानकारी प्राप्त करने के लिये आए है तो दोस्तों आप हमारे इस पोस्ट को अंत तक पढे, आज हम आप लोगों को यहा पे anuched lekhan in hindi के बारे मे सम्पूर्ण जानकारी देंगे.

अनुच्छेद लेखन (anuched lekhan ) क्या है ?

किसी विषय या वस्तु पर संक्षेप में कुछ अलग अलग तरह का वर्णन करना उसके अर्थ स्पष्ट हो उसे अनुच्छेद कहते हैं इसमें केवल एक विषय पर ही लिखते हैं विषय से बाहर का भी कुछ इसमें नहीं जोड़ा जाता है यह स्वयं में ही इतनी पूर्ण और स्वतंत्र रचना है कि इसे निबंध का शुद्ध रूप भी कर सकते हैं अथवा लघु निबंध भी मान सकते हैं.किसी भी भाव या विचार को व्यक्त करने के लिए जो संबंध और लघु वाक्य समूह लिखा जाता है वह अनुच्छेद लेखन कहलाता है.

अनुच्छेद लेखन में विषय वस्तु से जुड़ी हुई चीजों को इस तरह से वर्णित करते हैं कि वह बिल्कुल संतुलित तथा पूर्ण होती है अनुच्छेद के लेखन में विषय को आवश्यकता के  ही रूप देना चाहिए अर्थात बिना जरूरत की अत्यधिक विस्तारित रूप नहीं देना चाहिए इसमें विषय वस्तु से जुड़े हुए सभी सकारात्मक पक्षों का लिखा हुआ बहुत महत्वपूर्ण होता है इसमें अनावश्यक विस्तार नहीं देना चाहिए अनुच्छेद लेखन में कुछ विषय मुख्य विचार होते हैं जो अनुच्छेद के अंत में बताए जाते हैं|

अनुच्छेद लेखन के समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए

  • अनुच्छेद लेखन में सर्वप्रथम रूपरेखा और संकेत बिंदु अवश्य बनाना चाहिए क्योंकि कुछ प्रश्न शब्दों की रूपरेखा और सांकेतिक बिंदु से पहले से तैयार होते हैं लिखने वाले को चाहिए कि वह उन रूपरेखा और बिंदुओं को ध्यान में रखकर ही अपना अनुच्छेद लेखन करें.
  • विषय से संबंधित प्रमुख बातों को ही अनुच्छेद में लिखना चाहिए .
  • अनुच्छेद लेखन में एक विषय के पक्ष का वर्णन करना अति उत्तम होता है किसी भी विषय की दो पक्ष होते हैं एक सकारात्मक और दूसरा नकारात्मक तो पहले ही यह विचार कर लेना चाहिए कि कौन सा पक्ष लिखना है इसीलिए यह भी आवश्यक हो जाता है कि अनुच्छेद में लिखना और शब्दों की संख्या समिति होती है.
  • अनुच्छेद की भाषा सरल एवं स्पष्ट होनी चाहिए.
  • अनुच्छेद लेखन में कभी भी दोहराव की स्थिति भी होनी चाहिए एक बात का जिक्र कई बार ना होकर एक बारी हो तो अच्छा है यदि अनुच्छेद में शब्दों का बार-बार दोहरा होगा तो दिए गए समिति शब्दों में लिखने वाले का संदेश समीक्षक तक स्पष्ट नहीं होगा.
  • निबंध की तरह इसमें भूमिका नहीं लिखनी चाहिए सीधे विषय वस्तु पर आना चाहिए.
  • अनुच्छेद लेखन लिखते समय शब्दों की समिति अवस्था को ध्यान में रखना आवश्यक है एक अनुच्छेद में 100 से 120 शब्द लिखे जा सकते हैं यदि शब्दों की समय सीमा को ध्यान में रखा जाएगा तो अनुच्छेद के अंदर महत्वपूर्ण बातें ही लिखी जाएगी.
  • अनुच्छेद में तर्क वितर्क का प्रयोग नहीं करना चाहिए अनुच्छेद में पक्ष विपक्ष से बचना चाहिए.
  • अनुच्छेद लिखते समय विषय से संबंधित कोई सूक्ति अथवा कविता ध्यान में हो तो उसे भी लिखा जा सकता है इसमें अनुच्छेद रोचक और प्रभावशाली हो जाते हैं.
  1. अनुच्छेद लेखन में समाप्ति के उसके निष्कर्ष की स्पष्टता होनी चाहिए पढ़ने वाला बिना किसी परेशानी की अनुच्छेद का निष्कर्ष समझ सके.

अनुच्छेद लेखन क्या है ?(विशेषताएं और उदाहरण)

Credit : Hindi adhyapak

अनुच्छेद की कुछ प्रमुख विशेषताएं

Serial No अनुच्छेद लेखन विशेषताएं (Anuchhed lekhan in Hindi Visheshtaye)
1अनुच्छेद लेखन में भाव या विचारों को एक बार में एक ही स्थान पर व्यक्त किया जाता है या लिखा जाता है इसमें अन्य विषय की विचार नहीं कर सकते हैं |
2अनुच्छेद के सभी वाक्य एक दूसरे से जुड़े हुए होते हैं और संबंधित होते हैं वाक्य छोटे तथा एक दूसरे से लगे हुए होते हैं |
3अनुच्छेद के वाक्य समूहों में उद्देश्यों की एकता होती है बिना प्रसंग की बातों को निकाल दिया जाता है केवल जो महत्वपूर्ण बातें ही होती हैं उन्हें ही अनुच्छेद में रखा जाता है|
4अनुच्छेद एक सौ तंत्र और पूर्ण रचना है जिसका कोई भी वाक्य बिना आवश्यकता के नहीं जुड़ पाता है|
5अनुच्छेद सामान्यतः लोग ग्रुप वाले ही होते हैं किंतु इनका संक्षेप या विस्तार रूप विषय वस्तु पर निर्भर रहता है लेखन के संकेत बिंदु के अनुसार ही विषय वस्तु का क्रम तैयार होना चाहिए|
6उत्तम कोटि के अनुच्छेद लेखन में विचारों को क्रम में रखा जाता है कि उनका आरंभ मध्य और अंत आसानी से पता चल जाए और किसी पाठक को समझने में कोई गलती ना हो|
7अनुच्छेद की भाषा कठिन ना होकर सरल और साफ साफ होनी चाहिए|

➡️Read Also : Letter Writing In Hindi ( पत्र कैसे लिखे पूरी जानकारि हिन्दी मे )

Hindi Anuched Lekhan Examples (Udharahan) for class 2,3,4,5,6,7,8,9,10

Hindi anuchhed lekhan Topics For Class 1 to 10th

उदाहरण -1 : Anuched Lekhan Examples for class 2

परीक्षा के कठिन दिन

परीक्षा का नाम सुनते ही आंखों के सामने परीक्षा भवन का दृश्य नाच उठता है परीक्षा जब पास आने लगती है तब सभी विद्यार्थी मौज मस्ती बोलकर पढ़ाई में जुड़ जाते हैं जो विद्यार्थी पूरे पूरे साल पढ़ाई करते नहीं दिखते थे वह भी इन दिनों लगन से पढ़ाई करते हुए दिखाई देते हैं परीक्षा समीप आने से पहले ही यदि प्रतिदिन थोड़ी थोड़ी पढ़ाई कर ली जाए तो इन दिनों इतनी कठिनाई का अनुभव नहीं होगा.

प्रश्न पत्र मिलने से पहले सभी विद्यार्थी की मन में अजीब सी घबराहट होती है प्रश्न पत्र हाथ में आते ही घबराहट लगभग दूर हो जाती है परीक्षा के दिनों में शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए पौष्टिक भोजन व आराम भी अत्यंत आवश्यक होता है कुछ भी कहो चाहे छोटी उम्र का बालक या बड़ी उम्र का विद्यार्थी परीक्षा के कठिन दिन बीत जाने पर सभी प्रसन्नता से नाचने कूदने लगते हैं.

उदाहरण -2: Anuched Lekhan Examples for class 3

पराधीनता में सुख नहीं

यदि पंछी को पिंजरे में बंद रखकर उसे सभी सुख सुविधाएं दी जाए तब भी वह शाहजहां ना भूल जाता है खुले आकाश में मुक्त होकर उड़ान भरने में जो सुख प्राप्त होता है वह सुख सोने के पिंजरे में बैठकर दाना चुगने से नहीं होता यहि पेड़ पौधे और मनुष्यों की भी है यदि मनुष्य स्वतंत्र ना हो उस पर अनेक बंधन लगा दिया जाए तो वह सुख सुविधा पाकर भी कभी प्रसन्न नहीं रह सकता.

यदि कोई भी देश स्वतंत्र नहीं है तो वहां के निवासी खुशहाल कैसे हो सकते हैं सभी बंधन मुक्त स्वतंत्र जीवन जीना चाहते हैं क्योंकि स्वाधीनता की सूखी रोटी खाने में जो सुख मिलता है वह पराधीनता के पकवान वह ऐसे आराम से प्राप्त नहीं हो सकता.

उदाहरण -3 Anuched Lekhan Examples for class 3

सूर्यास्त

प्रकृति विभिन्न रूपों में अपना सौंदर्य बिखेर कर इस धरती को स्वार्थी रहती है पूर्व दिशा से उदय हुआ सूर्य धीरे-धीरे पश्चिम दिशा की ओर बढ़ते हुए क्षितिज के उस पार अस्त हो जाता है प्रकृति का यह नियम अद्भुत है सूर्यास्त का दृश्य ह्रदय की गहराइयों में उतर कर आनंद अवस्था में पहुंचा देता है सारा आकाश विभिन्न रंगों से रंग जाता है.

अस्त होते हुए सूर्य की उजली पीली और लाल किराणे आकाश पर ऐसे दृश्य उत्पन्न कर देती है जैसे कोई मंझा व चित्रकार अपनी तूलिका से रंग बिखेर रहा हो उजले प्रकाश से जगमगाता सूर्य धीरे धीरे लाल और पीले रंग में परिवर्तित होकर क्षितिज की ओर से बढ़ता है जैसे कोई गेंद लुढ़क रही हो.

मन चाहता है उस गेंद को आगे बढ़कर पकड़ ले भला उसे पकड़ा जा सकता है और सूर्य छितिज का स्पर्श करते ही उसे अपने रंग में रंग लेता है धीरे-धीरे सूर्य आंखों से ओझल हो जाता है और आकाश परछाई रंग सुरमई हो जाते हैं सांझ अपनी सांवली चादर ओढ़ कर आकाश पर विचरण करने आ जाता है.

उदाहरण -4 : Anuched Lekhan Examples for class 4

मैं नदी हूं

मैं नदी हूं बचपन से ही पिता के लाड प्यार ने मुझे स्वतंत्रता दी है मैं पिता की गोद से निकलकर कल कल करती हुई अपनी ही गति से आगे चलती गई चंद्रमा सूर्य और तारों ने अपने उज्जवल प्रकाश से मुझे आगे के लिए रास्ता दिखाया कभी कभी छोटे पत्थर मेरे रास्ते में आए मुझे रोकने का प्रयत्न किया लेकिन मेरे तेज वेग आगे कोई अधिक देर तक टिक न सका हम हिम शिखरों को पीछे छोड़ती हुई मैं मैदानी समतल भागों से होती अनेक गानों को हरा भरा करती मैं वृश्चिक और गहरी हो गई हूं जब मुझ पर आक्रोश सवार होता है तो मेरा विवेक नष्ट हो जाता है और मैं कंगारू को तोड़ती हुई खेत खलियान में घुस जाती हूं मेरी अधिक गति के कारण लोग त्राहि-त्राहि करने लगते हैं इसी तरह बिना रुके मैं अपनी मंजिल तय करती हुई समुद्र में जा मिलती हूं.

उदाहरण -5 : Anuched Lekhan Examples for class 5

यदि मैं शिक्षक जाऊं

मानव मन कल्पनाओं का सागर होता है मैंने भी अपने मन में शिक्षक बनने की कल्पना की है यदि मैं शिक्षक बन जाऊंगा मुझे एक आदर्श विद्यालय बनाने के लिए कई कार्य करने होंगे मेरा यह सपना है कि मेरा विद्यालय अन्य विद्यालयों की उपेक्षा सबसे ज्यादा श्रेष्ठ हो मैं अपने विद्यालय में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को प्रतिभा को उभारने का पूरा प्रयास करूंगा विद्यालय में किताबी शिक्षक के साथ-साथ नैतिक मूल्यों की शिक्षा भी देने का प्रयास करूंगा विद्यालय में खेलकूद योग्य शिक्षा सांस्कृतिक क्रियाकलापों पर भी विशेष ध्यान दूंगा विद्यार्थियों के सर्वागीण विकास के लिए समय-समय पर भाषण प्रतियोगिता वाद-विवाद प्रतियोगिता गायन इत्र आदि प्रतियोगिताओं का आयोजन गुरु विद्यालय में अनुशासन का विशेष ध्यान रखूंगा मेरा यह प्रयास रहेगा कि मेरे विद्यालय में पढ़ने वाले सभी छात्रों अनुशासित और अच्छे नागरिक बने और हम सब टीचरों का नाम रोशन करें और और सब बहुत आगे बढ़े |

उदाहरण -6 :Anuched Lekhan Examples for class 6

सत्संगति

मनुष्य एक सामाजिक प्राणी है वह समाज में अपना जीवन व्यतीत करता है इसी कारण उस पर समाज का सबसे अधिक प्रभाव होता है समाज में रहने के लिए वह अच्छे बुरे हर तरह के लोगों में संपर्क में आता है उसकी व्यक्तित्व तथा आचरण पर बहुत लोगों का प्रभाव दिखाई देता है जिसकी संगति वह रहता है संगत का प्रभाव मनुष्य पर बहुत अधिक पड़ता है |

जन्म से ही कोई अच्छा कोई बुरा नहीं होता है जब तक उसका संपर्क श्रेष्ठ लोगों से होता है उसमें सद्गुणों की वृद्धि होती है बुरे लोगों की संगति उसे विनाश और पतन की ओर ले जाती है पारस के संपर्क में आने से जिस प्रकार लोहा भी सोना बन जाता है उसी प्रकार अच्छे मनुष्य की संगत में बुरे से बुरे आदमी भी सुधर जाता है इसीलिए यथासंभव को संगत से बचकर सत्संगति में रहने का प्रयास करना चाहिए .

➡️Read Also : Sandesh lekhan for class 5,6,7,8,9,10

उदाहरण -7 : Anuched Lekhan Examples for class 7

भारतीय साहित्य और संस्कृति

साहित्य और संस्कृति का एक दूसरे से बहुत अच्छा संबंध होता है वह दोनों एक दूसरे के पूरक होते हैं किसी भी देश अथवा जाति सामाजिक धार्मिक आर्थिक राजनीतिक परिस्थितियों एवं रीति-रिवाजों का उल्लेख तत्कालीन साहित्य में किया जाता है जब साहित्य से ही किसी देश अथवा जाति की संस्कृति का पूरा ज्ञान संभव होता है तब संस्कृत की रक्षा भी साहित्य के द्वारा होती है |

दूसरे शब्दों में संस्कृत को भावी पीढ़ियों तक पहुंचाने उसे मूर्त रूप देने या जीवित रखने का काम साहित्य करता है भारतीय साहित्य में प्राचीन भारतीय संस्कृत का उल्लेख मिलता है तभी आज हम भारतीय संस्कृत के बारे में जानते हैं भारत विविधताओं का देश है यह विभिन्न धर्मो जातियों और भाषाओं में एकता और सामान्य है |

उदाहरण -8 : Anuched Lekhan Examples for class 8

समय का महत्व

समय निरंतर पीटता रहता है समय बीतने पर उसका अनुभव नहीं कर पाते हैं समय किसी के लिए नहीं रहता रुकता है समय का महत्व समझते हैं वही अपने जीवन में उन्नति को प्राप्त करते हैं समय के बीच जाने के पश्चात कभी भी किए गए कार्यों में सफलता नहीं मिलती है तत्पश्चात उसकी अतिरिक्त कुछ हाथ नहीं आता जो विद्यार्थी सुबह समय पर उठते हैं और समय पर ही सोते हैं वही आगे चलकर सफलता और उन्नत को प्राप्त करते हैं जो व्यक्ति आलस में आकर समय गवा देते हैं उनका भविष्य अंधकार में हो जाता है |

संत कबीर जी ने कहा है

काल करे सो आज करो, आज करे सो अभी |

पल में प्रलय होएगी, बहुरि करोगे कब |”

समय‌ का एक-एक पल बहुत मूल्यवान होता है और बीता हुआ पल कभी लौट कर नहीं आता इसीलिए समय का महत्व पहचान कर हमें नियमित रूप से पढ़ाई करनी चाहिए और अपने लक्ष्य की प्राप्ति की तरफ कदम बढ़ाने चाहिए जो समय बीत गया उस पर वर्तमान समय बर्बाद कर आगे की सुध लेना ही बुद्धिमानी मनुष्य की पहचान होती है |

भारतीय साहित्य के अध्ययन से पता चलता है कि उसकी साहित्य और संस्कृत में समन्वय की भावना प्रमुख है तथा उनमें संस्कृति का आदर्श एवं विशेषता विविध रूप और परिस्थितियों के अनुरूप है |

उदाहरण -9 : Anuched Lekhan Examples for class 9

करोना एक वैश्विक बीमारी

हम सभी जानते हैं कि हमारे देश पर एक बुरे दौर से गुजर रहा है करोना नामक है ले वायरस से सब का जीना दुश्वार कर रखा है हाल ही में विश्व स्वास्थ्य संगठन में इसी महामारी घोषित कर दिया है दुनिया में एक ऐसा भी देश ना बचा हो जो इस वायरस के प्रभाव से बस सके करो ना चीन का वहा शहर का दिन है यही चीज बीमारी की शुरुआत 2019 से दिसंबर माह में इस कारण इसे COVID -19 या Corona Virus Disease – 19 कहा जाने लगा |

यह आकाश एक सामान्य पुरुष के बालों के आकार से भी लगभग 900 गुना सोच में है लेकिन इसका प्रभाव इतना भयानक है कि ना जाने कितने लाखों लोगों की इसी करो ना वायरस की चलती मृत्यु हो गई एक दूसरे की संपर्क में आने से होता है यदि एक करो ना वायरस पीड़ित मनुष्य किसी दूसरे सामान पुरुष को छू ले अथवा पीड़ित द्वारा छोड़ी गई किसी तरह को भी यदि सामान्य मनुष्य छू ले तो वह भी पीड़ित हो जाएगा इसी कारण है विश्व में बहुत तेजी से फैला है |

यह वायरस पूरी दुनिया को आश्चर्य में डाल देने वाला वायरस है इसके लक्षण बहुत ही सामान्य है जैसे सर्दी खांसी जुकाम सांस लेने में तकलीफ यह सीधा मनुष्य के फेफड़ों को नुकसान पहुंचाती है इसके बचाव के लिए भी दुनिया के पास कोई दोस्ती का या व्यक्ति नहीं है इसीलिए स्वयं की सावधानी इस बीमारी से बचने का बड़ा उपाय है पीड़ितों के संपर्क में आने से बचना मास के पहनना भीड़भाड़ वाले इलाकों से बच के रहना किसी सामाजिक कार्यक्रम में आ समारोह से दूरी बनाए रखना यह इस बीमारी से बचने रहने के आसान तरीके हैं और यदि किसी व्यक्ति में सामान्य लक्षण भी दिखे तो तुरंत डॉक्टर से इलाज कराएं.

➡️Read Also : नारा लेखन कया है और नारा कैसे लिखते है

उदाहरण -10 : Anuched Lekhan Examples for class 10

लॉकडाउन

कोरोनावायरस का संक्रमण पूरे विश्व में इतनी तेजी से फैला हुआ है कि कोई दवा या वैक्सीन उपलब्ध ना होने के कारण इस वायरस से बचने का तरीका सिर्फ और सिर्फ सोशल स्टडी सिंह यानी सामाजिक दूरी है इसीलिए माना हित में उनकी जान की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए भारत(25 March 2020) और साथ ही विश्व में कई देशों से पूर्ण पहला डाउन यानी पूर्ण तालाबंदी घोषित कर दी गई है लाभ दान की व्यवस्था का प्रयोग कब किया जाता है जब किसी भी देश में कोई भयंकर आपदा या बड़ी महामारी फैली हो ताकि आम जनता को जान बचा सके |

लॉकडाउन के समय बाजारों स्कूलों कालेजों दफ्तरों सार्वजनिक स्थल और शापिंग माल तथा सभी धार्मिक स्थल शादी-ब्याह जंचता रजनी कार्यक्रम का पूर्णतः पाबंदी होती है सिर्फ दवाइयां और खाने-पीने की जरूरत चीजों के लिए दुकानें खुली होती है ताकि आप लोगों की जो मूलभूत आवश्यकता है उसमें कोई बिग में लगा हो उसे पूरा किया जा सके |

लॉक डाउन लगाने का प्रमुख कारण है कि लोग एक दूसरे से मिलते जुलते या बाहर आते जाते नहीं है अगर कम हो सके सार्वजनिक स्थलों पर सिनेमा हॉल जहां भी लोगों की ज्यादा भीड़ होती है वह भीड़ ना हो सभी लोग अपने घरों के अंदर रहे जिससे वे करो ना सिर पर सफेद लाल टाउन से मनुष्य का भला हो साथ ही साथ प्रकृति में भी उनके फायदे बने रहे |

Conclusion

तो आशा करते है आप सभी को आज के हमारे इस लेख से काफी मदद मिली होगी । जिसमे अपने जाना की अनुच्छेद लेखन क्या है ? अनुच्छेद लेखन (Anuched lekhan in hindi) के समय निम्न बातों का ध्यान रखना चाहिए और इसके कुछ उदाहरण आदि । अगर आपको हमारा आज का यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तो के साथ जरूर शेयर करे ।

Increase your Friendship
Published by
Gulshan Thakur

Recent Posts

  • Full Form

SSC क्या है? SSC का Full Form क्या है के hindi मे.

हेल्लो दोस्तौ आप सभी लोगो का स्वागत है हमरे वेबसाइट Infoinhindi मे. आज मै ऐक…

3 days ago
  • Full Form

रीप क्या होता है, Rip शब्द कि सभी जानकारी.

RIP Full Form In Hindi : हेल्लो दोस्तो आप सभी लोगो का हमरे वेबसाइट infoinhindi…

3 days ago
  • Full Form

Teacher Full Form in hindi

हेल्लो दोस्तौ आप सभी लोगो का स्वागत है आज के ऐक नयी जानकारी मे, दोस्तौ…

3 days ago
  • Full Form

BBA KYA hai, BBA kaise kare , BBA Full Form In Hindi

हेल्लो दोस्तौ स्वागत है आप सभी लोगो का हमारे वेबसाइट Infoinhindi मे. मै आज ऐक…

3 days ago
  • Full Form

BPO Full form in hindi and English

BPO Full form in hindi: दोस्तों आज मै आप सभी लोगों को इस पोस्ट मे…

4 days ago
  • Instagram bio ideas

200+ Best Instagram Bio For Boys । Top Stylish And Attitude Bio For instagram

Hello Friends If You Are Searching on Google For Best Instagram Bio For Boys, Stylish,…

4 days ago