Warning: Undefined array key "description" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3410

Warning: Undefined array key "uploadDate" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3411

Warning: Undefined array key "duration" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3412

Warning: Undefined array key "viewCount" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3418

Warning: Undefined array key "description" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3410

Warning: Undefined array key "uploadDate" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3411

Warning: Undefined array key "duration" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3412

Warning: Undefined array key "viewCount" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3418

Warning: Undefined array key "description" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3410

Warning: Undefined array key "uploadDate" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3411

Warning: Undefined array key "duration" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3412

Warning: Undefined array key "viewCount" in /home/u125740655/domains/infoinhindi.net/public_html/wp-content/plugins/schema-and-structured-data-for-wp/output/function.php on line 3418
सिर्फ 10 मिनट मे सिखे की हिंदी में आवेदन पत्र कैसे लिखे ( Aavedan Patra in hindi )

हिंदी में आवेदन पत्र (Application) कैसे लिखें।

दोस्तो आप सभी ने अपनी जिंदगी में कभी न कभी आवेदन पत्र या एप्पलीकेशन जरूर लिखा होगा, अगर नहीं भी लिखा है तो आप उसे लिखना चाहते है या फिर यह जानना चाहते है कि हिंदी में आवेदन पत्र कैसे लिखा जाता है, इसीलिए आप इस पोस्ट पर अभी आये है.

आज की इस पोस्ट में हम इस लेख के द्वारा आपको हिंदी में एप्पलीकेशन लिखना  सिखाएंगे, की एक अच्छे आवेदन पत्र में कौन सी मुख्य बातें या बिंदु होते है, आज के इस लेख को पढ़ने के बाद आप आराम से किसी के लिए भी कि आवेदन पत्र लिख सकते है, फिर चाहे वो आवेदन पत्र ऑफिस के लिए हो या फिर स्कूल व कॉलेज के लिए।

क्यों लिखें जाते है आवेदन पत्र (एप्पलीकेशन)

सामान्य तौर पर आवेदन पत्रों के माध्यम से हम अपनी बातें या शिकायतें या फिर निवेदन प्रार्थना को अपने से बड़े लोंगो तक पहुँचाते है, जिनमें से हमारे कॉलेज के प्रिंसिपल, किसी ऑफिस का मुख्य अधिकारी या फिर नगर पालिका अध्यक्ष इत्यादि बहुत से लोग आते है जिनसे हम प्रत्यक्ष तौर पर बात नहीं कर सकते है, जितने भी सरकारी काम होते है उन सभी में लिखित रूप से एप्पलीकेशन ही लगाए जाते है और उनका एक रिकॉर्ड भी रखा जाता है कि किस शिकायत पर क्या कार्यवाही की गई।

आवेदन पत्र के कितने मुख्य भाग होते है ?

दुनिया में कोई भी वस्तु हो, वो छोटे छोटे भागो से मिलकर ही बनती है, ऐसे ही आवेदन पत्र के भी प्रकार होते है जिन्हें हम 3 हिस्सो में विभाजित करते है

Serial Noआवेदन पत्र के प्रकार
1आवेदन पत्र का आरंभिक भाग
2आवेदन पत्र का मध्य भाग
3आवेदन पत्र का अंतिम भाग

1. आवेदन पत्र का आरंभिक भाग

आवेदन पत्र लिखने का यह पहला चरण होता है जिसमें हम स्थान या जगह, तारीख, संबोधन, संस्था का नाम और पता ( कॉलेज या दफ्तर ), और पत्र का मुख्य विषय और इसके साथ संबोधन शब्दो ( श्री मान, महोदय, प्रिय इत्यादि ) का प्रयोग किया जाता है

2. आवेदन पत्र का मध्य भाग

आवेदन पत्र के इस भाग में हम अपने विषय को लिखते है, इन विषय में हम अपनी बात या समस्या को लिख सकते है, और जब आपकी बात खत्म होने वाली हो तब अंत में प्रार्थना वाले वाक्य, धन्यवाद वाले वाक्यों का उपयोग करना चाहिए, इससे आपका आवेदन पत्र पढ़ने वाले व्यक्ति पर बहुत प्रभाव डालता है।

3. आवेदन पत्र का अंतिम भाग

आवेदन पत्र के इस भाग में हम अपना नाम, पता, मोबाइल नम्बर, रोल नम्बर इत्यादि लिखते है और साथ में आपका आज्ञाकारी, प्रार्थी जैसे शब्दों का प्रयोग करते है. Aavedan Patra का एक प्रारूप (सैंपल)

🌏 इसे भी पढे : लेटर कैसे लिखते है

1. बीमारी की छुट्टी के लिए अपने टीचर को हिंदी में आवेदन पत्र लिखे

                                                                                      परीक्षा भवन, लखनऊ

                                                                                      दिनांक – 29/12/2021

प्रधानाचार्य

दिल्ली पब्लिक स्कूल

गोमती नगर, लखनऊ

माननीय प्रधानाचार्य महोदय

विषय – 3 दिन के अवकाश के लिए

विनम्र निवेदन है कि महोदय, मुझे कल रात बहुत तेज बुखार आ गया था, जिसका आज डाक्टर के पास खून चेक कराया तो खून में मलेरिया पाया गया है, और डॉक्टर ने 3 दिन का रेस्ट करने का बोला है, अतः श्रीमान मुझे 3 दिन का अवकाश देने की महान कृपा करें।

                                                                                        आपका आज्ञाकारी शिष्य

                                                                                               सूर्यमन तिवारी

                                                                                                   कक्षा – 6

इसी तरह से हम और भी आवेदन पत्र लिख सकते है, बस उसमें नाम, पता, और विषय बदल जाता है।

Video Credit YouTube Channel : Magnet Brains

🌏 इसे भी पढे : पत्र कैसे लिखते है और पत्र का इथियाश क्या है

Conclusion ( निसकर्ष )

तो दोस्तों आज के इस लेख हिंदी में आवेदन पत्र (Application) कैसे लिखें, में आपने यह सीखा की हम आवेदन पत्र को कैसे लिख सकते है और इसके कितने मुख्य हिस्से होते है।

आवेदन पत्रों को औपचारिक पत्रों की कैटेगरी में रखा जाता है, आवेदन पत्रों को लिखते समय हमें अपने व्यक्तिगत परिचय को देने की या फिर हाल चाल पूछने की जरूरत नहीं पड़ती है।

आवेदन पत्र को लिखते समय उसके तीनो हिस्सो को ध्यान में रखना जरूरी होता है क्योंकि अगर इनमें से एक भी हिस्सा छूट गया तो आवेदन पत्र देखने में और पढ़ने में अच्छा नहीं लगेगा यानी कि आवेदन पत्र अपनी सभी विशेषताएं खो देगा।

अगर आप किसी अधिकारी को आवेदन पत्र लिख रहे है तो उस अधिकारी की पोस्ट का नाम सबसे ऊपर लिखना चाहिए, इससे आवेदन पत्र की प्रभावशीलता बहुत अधिक बढ़ जाती है, इसके अलावा आपको आवेदन पत्र के अंत में अपना नाम व पता, मोबाइल नम्बर या ईमेल जरूर देनी चाहिए, जिससे वह अधिकारी आपसे सम्पर्क कर सके।

तो दोस्तो आज का हमारा यह लेख Aavedan Patra in hindi (Application Writing )कैसे लिखें, आपको अगर पसंद आया हो तो एक प्यारा सा कॉमेंट जरूर कर देना, आपके कॉमेंट से हमें आगे बढ़ने का और नई जानकारियाँ अपडेट करने का मोटिवेशन मिलता है। 

Increase your Friendship

View Comments (0)