हिंदी में पत्र कैसे लिखे और पत्र का इतिहास क्या है ?

पत्र कैसे लिखे ? , दोस्तो आज के इस लेख में हम आपको एक विलुप्त हो रही कला पत्र लेखन के बारे में विस्तारपूर्वक बताएंगे, यह कला आज के समय में 90 प्रतिशत तक विलुप्त हो चुकी है, अब आप सोच रहे होंगे कि भला ऐसी कौन सी खुफिया या रहस्यमयी कला आ गयी जो हमें नहीं पता और यह विलुप्त भी होने वाली है ।तो आपका सोचना भी सही है क्योंकि आज के इस High Technology के जमाने में उस कला को कोई भी इतना महत्व नहीं देना चाहता है और वह कला है पत्र लेखन या चिट्ठी लिखने की. जी हाँ अब आप भी सोच रहे होंगे कि इतनी छोटी सी बात आपके दिमाग में क्यों नहीं आई, वो इसीलिए क्योंकि पत्र की जगह आज के समय में मोबाइल ने ले ली है.

दोस्तौ आज के टाइम में हम सभी बस मोबाइल में टाइप करके ही अपने संदेश को कुछ ही पलो में दूर विदेश में भी पहुँचा सकते है, यही एक मुख्य वजह है कि हम चिट्ठी को अब इतना अधिक महत्व नहीं देते है, क्योंकि आज के समय में सभी को सब कुछ बहुत जल्दी चाहिए होता है इसकी मुख्य वजह है. समय की कमी.

दोस्तौ समय की कमी की वजह से आज के समय में कोई भी पत्र नहीं लिखता है क्योंकि सभी को यही लगता है, कि कौन अब पत्र लिखे, फिर उसे डाकघर में देने जाए, फिर हफ़्तों बैठ कर इंतजार करें कि कब मेरी चिट्ठी पहुँचेगी, इससे अच्छा मोबाइल में मेसेज करके भेज दे या फिर इंटरनेट की मदद से Email कर दें। लेकिन जो मजा पत्र लिखने और पढ़ने में आता है वो आज के जमाने के ईमेल या टेक्स्ट मेसेज पढ़ने में नही आता है।

दोस्तौ आज से 20 साल पहले तक पत्र इतने मशहूर थे, क्यू कि फिल्मों में उनके गाने तक आते थे ऐसा ही एक गाना आपने भी सुना और देखा होगा – चिठ्ठी आती है बड़ा तड़पाती है कि घर कब आओगें, बॉर्डर फ़िल्म का यह गाना अपने समय का सबसे हिट गाना रहा था क्योंकि उस समय मोबाइल और इंटरनेट की पहुँच आम और गरीब लोगो तक नहीं थी.

दोस्तौ तब उनके पास अपने संदेश भेजने के लिए बस एक मात्र तरीका था पत्र लिखना।उस समय में जब डाकिया चिट्ठी लेकर गाँव में आता था तब गाँव के बच्चे शोर मचाने लगते थे और लोगो की भीड़ जमा हो जाती थी कि उनके किसी अपने ने अपना संदेश चिट्ठी में लिख कर हमें भेजा है।आपने भी कभी न कभी अपने माता-पिता या बुआ या बड़े भाई या दोस्त को चिट्ठी लिखी होंगी लेकिन चिट्ठी की दुनिया यहीं खत्म नहीं हो जाती है क्योंकि चिट्ठी या पत्र लेखन का संसार बहुत बड़ा है.दोस्तौ आप सभी लोगो को , इसी लेख में पता लग जायेगा.

Video credit Youtube channel: Shubham lacturer

पत्र कैसे लिखे और पत्र कहाँ-कहाँ लिखी जाती है ?

यह सवाल हम सभी लोगो के दिमाग मे आता है की कहाँ-कहाँ लिखी जाती है पत्र ? दोस्तो आज से 20 साल पहले सभी जगह पत्र लेखन की कला से ही अपने संदेश को सभी जगह भेजा जाता था लेकिन. आज के इस टेक्नोलॉजी के जमाने में पत्र केवल स्कूलों और सरकारी दफ्तरों तक ही सीमित रह गए है.

दोस्तौ आज के समय मे शिर्फ इन्ही जगहों पर पत्र लिखें और भेजे जाते है, और पत्र का उपयोग बस शिकायत या जानकारी लेने के लिए ही किया जाता है क्योंकि कुछ सरकारी काम ऐसे होते है जो कि पत्र के द्वारा ही संभव हो पाते है, जैसे कि अगर आपकी गली या सड़क पर गंदगी है तो आप अपनी शिकायत पत्र के द्वारा नगरपालिका तक पहुचाते है.

● Read Also : Letter Writing In Hindi

पत्र लिखते समय हमें किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए ?

SR NO पत्र लिखते समय हमे किन बातो का धयान रख्ना चाहिये?
1पत्र लिखते वक्त हमें इस बात का विशेष ध्यान देना चाहिए कि हमारे द्वारा लिखे गए पत्र में सरल और सम्मानजनक शब्द हो, जिससे आपका पत्र पढ़ने वाला विशेष रूप से प्रभावित हो, भूल कर भी पत्र में कोई गलत शब्द का उपयोग नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे आपका काम बनने की जगह बिगड़ जाएगा।
2पत्र लिखते समय जितना हो सके उतनी सरल भाषा लिखे जिससे कि अगर कोई कम पढ़ा लिखा इंसान भी आपका पत्र पढ़े तो उसे वह सब कुछ समझ में आ जाये जो आप उसे पत्र के माध्यम से समझाना चाहते है।
3पत्र लिखते समय आपको गागर में सागर लेके चलना होता है जिससे कि कम शब्दों में ज्यादा जानकारी पत्र पढ़ने वाले को मिल जाये, दूसरे शब्दों में समझने की कोशिश करें तो आपको अपने पत्र में कोई भी अनावश्यक वाक्य नहीं लिखने है।
4अगर आपने पूरा पत्र लिख लिया है तो आप उसे एक बार जरूर दोबारा पढ़कर देखे कि कहीं कुछ छूट तो नहीं रहा है।
5आपको पत्र लिखते समय इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि आप वो पत्र किसके लिए लिख रहे है और उसे कहाँ भेज रहे है, अगर आप पत्र किसी अपने को लिख रहे या फिर आप उस पत्र को किसी सरकारी दफ्तर में बैठे अधिकारी को लिख रहे है या फिर आप इस पत्र को किसी छोटे भाई या दोस्त को लिख रहें है। इसी हिसाब से आपको अपने लिखे गए पत्र में शब्दों का उपयोग करना है।
6पत्र लिखतें समय आपको अपने पत्र के ऊपर अपना नाम व पता और पिन कोड तथा उस पत्र को प्राप्त करने वाले का नाम, पता व पिन कोड साफ-साफ लिखना चाहिए, जिससे पत्र आपकी बताई गई जगह पर समय से पहुँचे।

एक अच्छे पत्र या चिट्ठी की क्या खासियत होती है ?

एक अच्छे पत्र या चिट्ठी को लिखते समय कुछ बहुत ही महत्वपूर्ण बिंदुओं को ध्यान में रखना चाहिए क्योंकि यही बिंदु आपके द्वारा लिखे गए पत्र को खास बनाते है, यह सभी मुख्य बिंदु निम्नलिखित है

🔵 : पत्र लेखन में प्रभावशीलता का महत्व-आपके द्वारा लिखे गए पत्र में ऐसे शब्दों का उपयोग हुआ हो जो कि आपके पत्र को सबसे अलग और प्रभावशाली बनाते हो, जिससे आपके द्वारा लिखे गए पत्र को कोई भी पढ़े वो आपके पत्र से बहुत प्रभावित हो जाये।

🔵 : पत्र लेखन में विचारों का स्पष्ट होना-अगर आपके लिखे गए पत्र में कोई भी फालतू बात नहीं लिखी है और उसमें सभी मुख्य और काम की बातें लिखी है तो कोई भी आपके द्वारा लिखे गए पत्र का आसानी से उद्देश्य समझ जाएगा, इसीलिए हमेशा अपने पत्रों में स्पष्ट और साफ बातें ही लिखा कीजिये।

🔵 : आपके द्वारा लिखा गया पत्र पूरा होना चाहिए, आपने जिस उद्देश्य से पत्र लिखा है वो सभी जानकारी उस पत्र में लिखी होनी चाहिए।

🔵 : पत्र लिखते समय हमेशा साफ कागज का उपयोग करना चाहिए, वह कागज किसी भी तरफ से कटा या फटा नहीं होना चाहिए, इससे आपके द्वारा लिखे गए पत्र का प्रभाव बढ़ता है।

🔵 : आपके पत्रों में सरल और आसान शब्द लिखे होने चाहिए जिससे हर कोई आपके लिखें गए पत्र को पढ़कर समझ सके।

🔵 : आपको पत्र लिखते समय बहुत ही प्यारी भाषा का उपयोग करना चाहिए, जिससे अगर आपका कोई न चाहने वाला भी आपका पत्र पढ़े तो वो भी भाव-विभोर हो जाए।

🔵 : आपको अपने लिखे हुए पत्र में कठिन शब्दो और वाक्यों या मुहावरों का उपयोग नहीं करना चाहिए।

🔵 : आपको अपने लिखे हुए पत्र में अपनी सभ्यता का परिचय देते हुए शब्दों को ही लिखना चाहिए।

🔵 : आपको पत्र लिखते समय मुख्य और महत्वपूर्ण जानकारी को सबसे पहले लिखना चाहिए, उसके बाद अन्य बाते लिखनी चाहिए।

🔵 : आपके द्वारा लिखे गए पत्र में विराम चिन्ह, कोमा, अल्पविराम इन सभी का सही से उपयोग करना चाहिए, अगर आप इनका उपयोग सही से नहीं कर पाते है तो आपके लिखे गए शब्दो का अर्थ से अनर्थ हो जाएगा यानी कि आपके लिखे गए वाक्य का पूरा मतलब ही बदल जाएगा।

चिट्ठी व पत्र कितने तरह के होते है ?

अगर आपने कभी भी पत्र लिखा है तो आप यह अच्छे से जानते ही होंगे कि हम सभी जगह पर, अलग- अलग तरह से पत्र लिखते है, जैसे कि अगर हम अपने किसी छोटे भाई या दोस्त को पत्र लिखतें है तो उसमें प्रिय भाई या प्रिय दोस्त अथवा मित्र लिखकर संबोधित करते है, यदि हम उस पत्र को अपने स्कूल के प्रिंसिपल या अपने माता और पिता को या फिर नाना व नानी को या बड़े भाई को लिखते है तो इन सभी पत्रों में हम अपने से बड़ो को आदरणीय और महोदय या महोदया लिखकर सम्बोधित करते है, जिससे पत्र पढ़ने वालों को ऐसा लगता है कि हम उसका सम्मान कर रहें है।अगर इसके विपरीत आप अपने पत्रों में गलत शब्दों का इस्तेमाल करते है तो इससे आपकी छवि खराब होती है, जिससे मनमुटाव तक ही सकता है।

दोस्तौ वैसे तो पत्र 2 तरह के होते है जिनको हम अलग – अलग लोगो के लिए लिखते है, इनमें से एक हमारे जान पहचान के करीबी दोस्त या रिस्तेदार होते है और दूसरे वो लोग जिन्हें हम निजी तौर पर नहीं जानते है उनमें अक्सरकर बड़े अधिकारी लोग होते है जिनसे हम प्रत्यक्ष रूप से नहीं मिल सकते है उनसे बस पत्र के जरिये ही हम अपनी बात उन तक पहुँचा सकते है।इन पत्रों को निम्न दो ग्रुप में बांटा जा सकता है

सिरियल नो पत्र के प्रकार
1औपचारिक पत्र या Formal letter
2अनौपचारिक पत्र या Informal letter

》: औपचारिक पत्र या Formal letter :- यह वह पत्र होते है जिन्हें हम दफ्तरों में या किसी बड़े अधिकारी के लिए लिखते है, इन पत्रों में कोई प्रार्थना, निवेदन या फिर शिकायत या कोई सलाह आदि के बारे में लिखा जाता है, औपचारिक पत्रों में हमें सरल और मधुर भाषा ही लिखनी चाहिए जिससे इसे पढ़ने वाले अधिकारी आपकी की गई शिकायत पर अमल कर सके।

》 : अनौपचारिक पत्र या Informal letter :- यह वह पत्र होते है जिन्हें हम निजी पत्र भी कह सकते है क्योंकि इन्हें हम अपने दोस्तों, परिवार, और जानने वालों को लिखकर भेजते है, इन पत्रों को लिखने में हम अपने अनुसार शब्दो का चयन कर सकते है, इन पत्रों का मुख्य उपयोग हाल चाल जानने के लिए, निमंत्रण देने के लिए करते है।निष्कर्ष -तो दोस्तो आज के इस लेख में आपने पत्र लिखने के बारे में जाना, और पत्र कितने तरह के होते हैं और उन्हें लिखा कैसे जाता है, और पत्र का स्वर्णिम इतिहास भी जाना, पत्र लेखन पर यह लेख आपको कैसा लगा हमें कॉमेंट करके जरूर बताना.

अन्तिम शब्द ( Conclusion )

दोस्तौ आज हम्ने आप लोगो को इस पोस्ट मे आछी तरह से बताया है की पत्र किस प्रकार लिखते है . दोस्तौ यदि आप लोगो को फिर भी प्रशं है की Patra lekhan कैसे लिखे. तोह आप लौग कमेंट करे हम आपको जल्द ही आपकी परेशानी को दूर करने मे आपकी सहायता करेंगे. आप सभी लोगो को हमारे साथ अन्त तक बने रहने के लिये धन्यवाद.

Increase your Friendship

View Comments (0)